होली पर निबंध | Holi Essay In Hindi 2023

Author: Amresh Mishra | 1 year पहले

Holi Essay In Hindi 2023- होली विश्व भर में बड़ी धूम धाम से मनाई जाने वाली एक प्रचलित रंगों का त्यौहार है। खास तौर पर होली भारत और नेपाल में मनाया जाता है। होली के दिन लोग रंग और गुलाल एक दूसरे को लगाया करते है। इसके साथ ही इस त्यौहार के दिन कोई व्यक्ति बड़ा या छोटा नहीं होता सब एक सामान हैं। धूम धाम से रंगो के साथ खेलने वाली यह होली फाल्गुन महीने के पूर्णिमा को सेलिब्रेट किया जाता है। 

होली हर वर्ष मार्च महीने में ही आता है और यह माह काफी रंगीन नजर आता है। होली आने से एक महीने पहले से ही घर की साफ सफाई में सभी लोग जुट जाते है। बच्चे मस्ती के लिए रास्ते पर आने जाने वाले सभी लोगों पर रंग फेकते है। इस तरह होली में हर गली मोहल्ला रंगो से भरा रहता है। ऐसे में चलिए अब होली पर निबंध से जुड़ी हर महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान कर देते हैं। 

Holi Essay In Hindi, Holi Essay In Hindi 1000  Word, Holi Essay In Hindi One Thousand Word, Holi Par Nibandh, Holi Par Nibandh Hindi Me

होली पर निबंध 1000 शब्दों में | Holi Essay In Hindi 1000 Word 

परिचय 

होली एक रंगों का त्यौहार माना जाता है। भारत में होली प्रति वर्ष काफी धूम धाम से मनाई जाती है। मुख्य तौर पर होली हिंदुओं का ही पर्व माना जाता है। लेकिन फिर भी इस त्यौहार को हर धर्म के लोग साथ मिलकर मनाते है। हालांकि, होली एक भारतीय पर्व है, लेकिन उसके बावजूद कई बार अन्य देश विदेशों में भी इस पर्व को बड़ी उत्साह के साथ मनाया जाता है। 

होली के दिन लोग सभी पुरानी बातों को भुला कर अपनी दुश्मनी को साइड रखकर बड़ी उत्साह के साथ साथ मिलकर मनाते है। यह एक ऐसा पर्व है जिसके बारे में सोच कर ही मन में खुशी, उल्लास, उमंग और उत्साह देखने को मिलती है। इस त्यौहार को मेल एवं एकता का त्यौहार भी कहते है।  

यह भी पढ़ें:

होली कब मनाई जाती है? 

हिंदू कैलेंडर के मुताबिक फागुन मास की पहली माह के पूर्णिमा यानी मार्च महीने में हर वर्ष होलिका दहन की जाती है और अगले ही सुबह से होली मनाई जाती है। दरअसल, होलिका दहन से पहले से ही गांव मोहल्ले के लोग लकड़ियां जुटाना शुरू कर देते है और इसका ढेर लगाकर होलिका दहन मनाई जाती है। 

होलिका दहन हमेशा शाम में ही होती है। इस वक्त सभी लोग एक जगह पर जुटते है और फिर लकड़ियों में आग लगाई जाती है। इस प्रकार होलिका दहन होली के एक दिन पहले शाम को मनाई जाती है। इस वर्ष 8 मार्च 2023 को होली मनाई जाएगी। 

होली क्यों मनाई जाती है? 

होली किसी एक वजह से नहीं मनाई जाती है, बल्कि होली मनाने के पीछे कई पौराणिक कथाएं सुनने को मिलती है। इन्हीं में से एक प्रह्लाद की भक्ति की कथा सुनने को मिलती है। दरअसल, काफी वर्षो पहले एक हिरणकश्यप नाम का अत्याचारी राजा था। जिसे ब्रम्हा जी से वरदान मिले थे कि उसे किसी भी अस्त्र शस्त्र, धरती आकाश जैसे किसी भी जगह पर कोई मार नहीं सकता है। बस इसी बात का इस राजा को बहुत घमंड हो गया था। 

हिरणकश्यप अपनी प्रजा पर खूब जुल्म ढाया करता था। वही सभी प्रजा को विष्णु की पूजा करने से रोकता था। वही जो भी विष्णु की पूजा करते नजर आता उसको कड़ी से कड़ी सजा सुना दिया करता था। लेकिन ऐसे में इसके घर में इसके एक पुत्र जन्म होता है, जिसका नाम प्रह्लाद था। दरअसल, अपने पिता के अत्याचार के बावजूद प्रह्लाद भगवान विष्णु जी की पूजा करता रहता था। 

वही हिरणकश्यप समझा समझा कर थक गया तब वे अपने ही पुत्र प्रह्लाद को मारने की योजना बनाने लगता है और अनेक कोशिश के बाद भी वे हर बार असफल हो जाता था। इस प्रकार प्रजा ने भी प्रह्लाद के खूब चर्चे हुआ करते थे। तभी हिरणकश्यप ने अपनी बहन होलिका से मदद की गुहार लगाता है। और अपनी बहन को आग में प्रह्लाद को लेकर बैठनी का आदेश दे दिया। 

क्योंकि हिरणकश्यप को यह पता था की उसकी बहन को भगवान शिव से यह वरदान प्राप्त था कि जब तक तुम्हारे तन पर वस्त्र रहेंगे तब तक तुम्हे को जला नहीं सकता है। वही एक लकड़ी का ढेर बनाकर होलिका अपनी गोद में प्रह्लाद को बैठा कर बैठ जाती है। चुकी प्रह्लाद भक्ति में लीन था इसलिए उसे कुछ नहीं होता और दूसरी तरफ एक आंधी आती है, जिसमे होलिका के कपड़े उड़ जाते है। 

जिसके बाद होलिका खुद पर खुद जल कर राख हो जाती है। वही भगवान विष्णु जी की कृपा से प्रह्लाद को कुछ भी नहीं होता है। तो कुछ इस तरह बुराई पर अच्छाई की जीत होती है। तब से लेकर अभी तक सभी लोग होली मनाते है। क्योंकि यह बुराई पर अच्छाई का प्रतीक माना जाता है। 

होली कैसे मनाई जाती है? 

होलिका दहन के अगले ही दिन बच्चे सुबह से ही एक दूसरे पर रंग डाल कर होली की शुरुआत करते है। वही इस दिन कई तरह के पकवान भी घर में मनाए जाते है। सभी लोग होली खेलने के साथ ही साथ अच्छे अच्छे खाना भी खाते है। फिर उसके बाद दिन भर मस्ती करने के बाद शाम में फिर से लोग तैयार होकर हाथ में गुलाल लेकर सभी के घर जा जाकर अबीर से एक दूसरे का गाल लाल करके होली मनाते है। 

FAQ’S Related To Holi Essay In Hindi 2023 

Q1. होली पर 10 लाइन निबंध कैसे लिखा जाता है? 

1. भारत के सबसे पवित्र त्यौहार में से एक होली है। 
2. होली के दिन सभी एक दूसरे को रंग व गुलाल लगाते है। 
3. यह मुख्य तौर पर हिंदुओ का त्यौहार है। 
4. होली से पहले होलिका दहन मनाया जाता है। 
5. फाल्गुन के महीने में होली मनाई जाती है। 
6. होली के दिन व्यक्ति खूब खुशी से नाचते व झूमते है। 
7. होली के दिन सभी अच्छे से तैयार होकर एक दूसरे के गालों में गुलाल लगाते है। 
8. होली दो दिनों का पर्व होता है। 
9. होली खुशी, प्यार और भाईचारे का पर्व है। 
10. होली के दिन घर में अनेकों प्रकार के पकवान बनते है। 

Q2. होली किसका प्रतीक है?

होली बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। 

निष्कर्ष (Holi Essay In Hindi 2023)

आशा करता हूं कि आपको हमारा Holi Essay In Hindi 2023 का यह पोस्ट पसंद आया होगा। क्योंकि आज के लेख में मैंने आप सभी को होली पर निबंध से जुड़ी हर महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान किया है। इसके साथ ही अगर आपको हमारे इस लेख को पढ़कर कोई भी सवाल करना हो, तो कमेंट करके पूछ सकते हैं। 

Share on:

Author: Amresh Mishra

I am Amresh Mishra, owner of My Technical Hindi Website. I am a B.Sc graduate degree holder and 21yrs old young entrepreneur from the City of Patna. By profession, I'm a web designer, computer teacher, google webmaster and SEO optimizer. I have deep knowledge of Google AdSense and I am interested in Blogging.

Leave a Comment