OTP क्या है और इसका इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

-- विज्ञापन --

क्या आप जानते हैं OTP क्या है? OTP के क्या उपयोग हैं और यह क्यों आवश्यक है? यह एक ऐसा शब्द है जिसका दैनिक जीवन में अक्सर उपयोग किया जाता है। आजकल, लगभग सभी लोग ऑनलाइन लेनदेन करते हैं, जो सभी के लिए एक आम आदत बन गई है। किसी भी Transaction या ऑनलाइन गतिविधि में Security बनाए रखने के लिए आपके मोबाइल नंबर या Email पर एक Code आता है जिसे ही OTP कहा जाता है।

-- विज्ञापन --

आज लगभग सभी Online Transaction या किसी अन्य माध्यम में OTP Code का इस्तेमाल किया जा रहा है। जब भी आप कहीं पर Registration करते हैं या कोई Transaction करते हैं तो आपको OTP डालना होता है। कई बार आपको आपके बैंक से भी चेतावनी मिला होगा कि OTP Code किसी अन्य लोगों के साथ शेयर न करें। तो अब सवाल उठता है कि OTP क्यों शेयर नहीं किया जाना चाहिए। इन सभी सवालों के जवाब देने के लिए हम आज इस पोस्ट में हम विस्तार से बताने वाले हैं OTP या One Time Password क्या है? OTP का उपयोग क्यों किया जाता है? यह कितने अंक का होता है। तो चलिए शुरू करते हैं।

OTP (One Time Password) क्या है
-- विज्ञापन --

OTP या One Time Password क्या है? (What is OTP in Hindi)

OTP का अर्थ होता है One Time Password. यह एक Security Code होता है जिसे सिर्फ एक बार प्रयोग किया जा सकता है। इसी वजह से इसे One Time Password कहते हैं। यह आपकी अतिरिक्त सुरक्षा के लिए बनाया गया है।

ओटीपी का उपयोग करने की एक समय सीमा है जो 10 से 30 मिनट तक हो सकती है। कई बार यह समय सीमा बस कुछ Seconds की भी होती है। ओटीपी का लाभ यह है कि यह आपके खाते को सुरक्षित रखता है, चाहे वह बैंक खाता हो या Google खाता या कोई अन्य वेबसाइट पर बनाई गई खाता। OTP कोड आपके खाते की सुरक्षा के लिए एक सुरक्षित Verification Code होता है।

यह एक पासवर्ड है जिसे केवल एक बार उपयोग किया जा सकता है। किसी भी Online Verification या, किसी वेबसाइट पर लॉग इन करने या ऑनलाइन खरीदारी करने के बाद, DEBIT (डेबिट) या क्रेडिट कार्ड से भुगतान करने पर, कई वेबसाइट आपसे OTP मांगती हैं ।

OTP एक एसएमएस होता है। जिसका नंबर कोड 4 से 8 अंकों का होता है। ओटीपी सत्यापन के बिना, आप किसी भी खाते के माध्यम से भुगतान नहीं कर पाएंगे या जब आप ऑनलाइन लॉगिन करने के लिए साइन-अप करते हैं तो आपकी opinion सत्यापित की जाती है। फिर उस साइट द्वारा आपके मोबाईल नंबर या ईमेल पर कुछ अंक के कोड भेजे जाते हैं।

फिर, जब हम किसी वेबसाइट का पासवर्ड भूल जाते हैं, तो हम उसे रिकवर करने के लिए अपने मोबाइल नंबर का उपयोग करते हैं और उस वेबसाइट द्वारा हमारे नंबर पर OTP कोड भेजा जाता है और हम उस वेबसाइट से उस OTP कोड के साथ अपना पासवर्ड रिकवर कर सकते हैं।

ऑनलाइन हैकिंग का खतरा आज काफी बढ़ गया है, ओटीपी का काम सुरक्षा प्रदान करना है। अगर कोई आपकी आईडी और पासवर्ड कभी भी पता कर लेता है तो OTP आपकी सुरक्षा में एक और परत जोड़ देता है। यदि किसी प्रकार का पासवर्ड पता करके कोई आपके बैंक खाते या किसी अन्य खाते को बाधित करने की कोशिश करता है, तो वेबसाइट तुरंत आपके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी भेज देगी। कभी कभी हम यह पासवर्ड कॉल के माध्यम से भी प्राप्त करते हैं।

इस तरह, आपको यह चेतावनी भी मिलेगी कि आपका खाता खोलने का प्रयास किया गया है। हम कह सकते हैं कि यह एक प्रकार का पासवर्ड है जो हर बार अलग होता है, जिससे हमारी जानकारी को डिजिटल दुनिया में सुरक्षित रखने में मदद मिलती है।

OTP का Full Form क्या होता है?

OTP का पुरा नाम या Full Form “One Time Password” होता है।

OTP का उपयोग क्यों किया जाता है?

OTP के उपयोग से ऑनलाइन लेनदेन को सुरक्षित बनाने में मदद मिलती है। साथ ही, जब हम कई वेबसाइटों पर साइन अप या लॉगिन करते हैं, तो कुछ कोड हमें उस साइट द्वारा भेजे जाते हैं।

और जब हम अपने मोबाइल नंबर का उपयोग करते समय इसे पुनः प्राप्त करने के लिए अपनी किसी भी वेबसाइट का पासवर्ड भूल जाते हैं और उस वेबसाइट द्वारा हमारे नंबर पर OTP कोड भेजा जाता है और हम उस वेबसाइट में उस OTP कोड के साथ अपना पासवर्ड फिर से प्राप्त कर सकते हैं।

ऑनलाइन हैकिंग का खतरा आज काफी बढ़ गया है, ओटीपी का काम ऐसी गतिविधियों के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करना है। अगर किसी को आपका पासवर्ड पता हो तो वह आपके खाते के साथ कुछ भी कर सकता है लेकिन OTP होने से ऐसे ख़तरों से बचा जा सकता है। यही वजह है कि आपको बैंकों द्वारा हमेशा चेतावनी दी जाती है कि किसी अन्य व्यक्ति को अपने फोन पर प्राप्त OTP शेयर न करें।

OTP कैसे प्राप्त होता है?

किसी भी Online Verification या, किसी वेबसाइट पर लॉग इन करने या ऑनलाइन खरीदारी करने के बाद, DEBIT (डेबिट) या क्रेडिट कार्ड से भुगतान करने पर, कई वेबसाइट हमारे Phone पर OTP भेजती है जिसे हमें वहां Enter करना होता है। हम आमतौर पर तीन तरीकों से ओटीपी प्राप्त करते हैं:-

  • हम SMS के माध्यम से OTP प्राप्त करते हैं। इसका सबसे अधिक उपयोग होता है।
  • -- विज्ञापन --
  • VOICE CALLING के माध्यम से भी OTP प्राप्त कर सकते हैं।
  • आप जीमेल पते के माध्यम से भी अपना One Time Password प्राप्त कर सकते हैं। इसका उपयोग कम से कम होता है।

One Time Password की सुरक्षा कैसे करें?

जब आपको OTP कोड मिलता है, तो आपको बस इतना करना होता है कि आप इसकी कड़ी सुरक्षा करें, ताकि आप OTP कोड को सुरक्षित रख सकें, ताकि आपके द्वारा किया गया लेन-देन वास्तव में अच्छा हो। यहां आपके खाते को सुरक्षित रखने के कुछ तरीके दिए गए हैं:-

  • हमेशा सावधान रहें। मान लीजिए कि आपके पास कोई विदेशी नंबर से कॉल करता है और प्रतिनिधि होने का दावा करता है, उदाहरण के लिए बैंक। तो आपको संदेह होना चाहिए, क्योंकि बैंक आपसे संपर्क करते समय एक स्पष्ट संख्या के साथ-साथ एक स्पष्ट पर्याप्त पते का उपयोग करता है। आप बिना उनकी पहचान के उन्हें किसी तरह की कोई जानकारी न दें।
  • किसी को भी प्राप्त होने वाला ओटीपी कोड न दें, क्योंकि यह आशंका है कि इससे आपके साथ धोखाधड़ी हो सकता है।
  • कृपया पासवर्ड और पिन बदलें जो आपके पास नियमित रूप से है। एक पिन के लिए, इसे पिछले एक से अलग बनाने का प्रयास करें और यह आपके पास मौजूद प्रत्येक कार्ड से अलग होना चाहिए। एक पिन का उपयोग न करें जो आसानी से तोड़ा जा सकता है। उदाहरण के लिए, आपकी जन्म तिथि और अन्य, क्योंकि यह आसानी से अन्य लोगों द्वारा अनुमान लगाया जा सकता है।
  • अपनी अनुमति के बिना किसी और के हाथ में अपना कार्ड न छोड़ें। उदाहरण के लिए, चेकआउट में भुगतान करते समय। कार्ड पर जानकारी, उदाहरण के लिए एक एटीएम नंबर, और इसी तरह, गैर-जिम्मेदार लोगों द्वारा आसानी से उपयोग किया जा सकता है।
  • जब आपके कार्ड का उपयोग नहीं किया जा रहा हो, तो इसे Temporary ब्लॉक करें।
  • अपने खाते में हो रहे गतिविधियों का रिकॉर्ड रखें।

अन्तिम शब्द,

आज इस पोस्ट में मैंने OTP या One Time Password के बारे में बताया। आशा करता हूं यह जानकारी से आपको मदद मिली होगी। यदि आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अन्य लोगों के साथ शेयर करें। तथा यदि आपके पास इस पोस्ट से जुड़ा कोई सवाल है तो हमें कमेंट करके बताए।

ये भी पढे

-- विज्ञापन --
Share on:

Leave a Comment