X

मुस्लिम लीग का प्रथम अध्यक्ष कौन था? muslim league first president name

Author: Amresh Mishra | 1 वर्ष पहले

मुस्लिम लीग के प्रथम अध्यक्ष सर सैयद अली इमाम थे.

30 दिसंबर, 1906 को ढाका के नवाब आगा खान और भारतीय मुसलमानों के अधिकारों की रक्षा के लिए नवाब मोहसिन-उल-मुल्क के नेतृत्व में मुस्लिम लीग का गठन किया गया था । मुस्लिम लीग को बढ़ावा देने वाले कारक हैं-ब्रिटिश योजना, शिक्षा की कमी, मुसलमानों द्वारा संप्रभुता की हानि, धार्मिक रंग की अभिव्यक्ति, भारत का आर्थिक पिछड़ापन ।

मुस्लिम लीग का प्रथम अध्यक्ष कौन था?

मुस्लिम लीग के बारे में

बंगाल के विभाजन ने सांप्रदायिक विभाजन पैदा कर दिया। 30 दिसंबर, 1906 को आगा खान, ढाका के नवाब और नवाब मोहसिन-उल-मुल्क के नेतृत्व में मुस्लिम लीग का गठन भारतीय मुसलमानों के अधिकारों की रक्षा के लिए धारणा के रूप में किया गया था। प्रारंभ में, इसे अंग्रेजों से बहुत समर्थन मिलता है लेकिन जब इसने स्वशासन की धारणा को अपनाया तो उन्हें उनसे अभावग्रस्तता हो जाती है। सर सैयद अली इमाम की अध्यक्षता में 1908 में आयोजित लीग के अमृतसर सत्र में मुसलमानों के लिए अलग मतदाताओं की मांग की गई थी, इसे उनके मोर्ले-मिंटो रिफॉर्म 1909 ने स्वीकार किया था । मौलाना मुहम्मद अली ने अपने लीग विरोधी विचारों के प्रचार के लिए एक अंग्रेजी जर्नल ‘ कॉमरेड ‘ और एक उर्दू पेपर ‘ हमदर्द ‘ शुरू किया । उन्होंने ‘अल-हिलाल’ भी शुरू किया जो उनके राष्ट्रवादी विचारों के मुखपत्र के रूप में काम करता था।

मुस्लिम लीग को बढ़ावा देने के कारक

ब्रिटिश योजना– भारतीय को सांप्रदायिक आधार पर बांटना और भारतीय राजनीति में अलगाववादी रवैये का पालन करना। उदाहरण के लिए- अलग मतदाता, गैर-ब्राह्मणों और ब्राह्मणों के बीच जातिगत राजनीति की।

शिक्षा का अभाव– मुसलमान पश्चिमी और तकनीकी शिक्षा से अलग-थलग पड़ गए।

मुसलमानों द्वारा नुकसान संप्रभुता-1857 विद्रोह ब्रिटिश को लगता है कि मुसलमानों को अपनी औपनिवेशिक नीति के लिए खतरनाक बना देता है । चूंकि मुगल शासन को गद्दी से उतारने के बाद उनका शासन स्थापित किया गया था।

धार्मिक रंग कीअभिव्यक्ति-अधिकांशइतिहासकारों और कट्टरपंथी राष्ट्रवादियों ने हमारी समग्र संस्कृति के भारत के एक पक्ष की महिमा की। वे पक्षपातपूर्ण थे क्योंकि शिवाजी, राणा प्रताप आदि परासों थे लेकिन वे अकबर, शेरशाह सूरी, अलाउद्दीन खिलजी, टीपू सुल्तान आदि पर चुप रहे ।

भारत का आर्थिक पिछड़ापन– औद्योगीकरण की कमी के कारण तीव्र बेरोजगारी होती है और कुटीर उद्योग के प्रति ब्रिटिश रवैया दयनीय था ।

लीग के गठन के उद्देश्य

  • ताकि ब्रिटिश सरकार के प्रति भारतीय मुसलमानों की वफादारी को बढ़ावा दिया जा सके।
  • ताकि भारतीय मुसलमानों के राजनीतिक और अन्य अधिकारों की रक्षा की जा सके और उनकी जरूरतों और आकांक्षाओं को सरकार के सामने जगह दी जा सके।
  • अन्य समुदायों के प्रति मुसलमानों के बीच शत्रुता की भावना पर काबू पाना।
Share on:

Author: Amresh Mishra

I am Amresh Mishra, owner of My Technical Hindi Website. I am a B.Sc graduate degree holder and 21yrs old young entrepreneur from the City of Patna. By profession, I'm a web designer, computer teacher, google webmaster and SEO optimizer. I have deep knowledge of Google AdSense and I am interested in Blogging.

Leave a Comment