E-commerce क्या है(What is E commerce in Hindi)? खुद का e-commerce business कैसे शुरू करें?

-- विज्ञापन --

क्या आप जानते हैं E-commerce क्या है? (What is E Commerce in Hindi) और यह कितने प्रकार का होता है? इंटरनेट के माध्यम से किसी भी सामान का खरीद बिक्री का चलन हमारे देश में तेजी से लोकप्रिय हो रहा है। बस कुछ ही Click के साथ हम कोई भी सामान ऑनलाइन खरीद सकते हैं या उन्हें Order कर सकते हैं।

-- विज्ञापन --

जिसके बाद वह Product हमारे पते पर पहुंचा दिए जाते हैं। आज कोई भी चीजें ऑनलाइन खरीदी जा सकती है चाहे वह कोई Electronics items हो या Software. आपने भी Amazon, Flipkart, Snapdeal आदि वेबसाइटों से कई सामान को Online Order किया होगा या मंगाया होगा। यह सभी वेबसाइट E-commerce Websites के उदाहरण हैं।

आज के कुछ समय पहले हमें किसी सामान को खरीदने के लिए दुकान पर जाकर Shopping करना होता था लेकिन आज सब कुछ Online हो चुका है। यहां हम घर बैठे Online Items को चुन सकते हैं और खरीद सकते हैं। यह सब संभव हो पाया है तो सिर्फ E-commerce के माध्यम से।

आज हम इस पोस्ट में विस्तार से जानेंगे की E-commerce क्या है? (What is E commerce in Hindi). साथ ही हम यह जानेंगे की यह कितने प्रकार के होते हैं और इसके फायदे तथा नुकसान कौन कौन से हैं? तो चलिए शुरू करते हैं।

ये भी पढ़े :- Titan Pay Yono SBI Watch Kya Hai

ई-कॉमर्स क्या है? (What is E commerce in Hindi)

E commerce in Hindi

-- विज्ञापन --

E-commerce या Electronic commerce एक ऐसा माध्यम है, जहां इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम (इंटरनेट या किसी अन्य नेटवर्क) के माध्यम से वस्तुओं या सेवाओं को खरीदा / बेचा जाता है। सीधे शब्दों में कहा जाय तो, इंटरनेट का उपयोग करके किसी चीज की खरीद बिक्री करने की प्रणाली E-commerce कहलाता है।

ई कॉमर्स के माध्यम से किसी भी Business को संचालित किया का सकता है। यह एक ऐसा माध्यम है जहां व्यक्तियों और Organisations को इंटरनेट के माध्यम से वस्तुओं या Products और Services को खरीदने और बेचने का अवसर मिलता है।

E-commerce के मुख्य उदाहरण हैं Online Shopping, Online Payment, Internet Banking, Online Ticketing आदि।

ई-कॉमर्स की शुरुआत कैसे हुई? (How does E-commerce started)

E-commerce की शुरुआत 1990 के दशक में हुई और 2000 के दशक की शुरुआत में इसमें बढ़ोतरी हुई जब इंटरनेट की उपलब्धता बढ़ी। Internet की उपलब्धता से बहुत से लोकप्रिय ऑनलाइन विक्रेताओं का आगमन हुआ और E-commerce का कवरेज बढ़ा।

इसी बीच Amazon की शुरुआत 1995 में जेफ बेजोस के गैरेज में एक Book-shipping business के रूप में हुआ। धीरे धीरे यह काफी प्रचलित हुआ और इस तरह आज सभी प्रकार के Product Online उपलब्ध होने लगे और खरीदे जाने लगे।

ये भी पढ़े Payzapp Wallet Kya Hai 

ई कॉमर्स के प्रकार (Types of E-commerce in Hindi)

आमतौर पर, ग्राहकों को E-commerce में भाग लेने के आधार पर ई-कॉमर्स को चार भागों में बांटा गया है। यहां E-commerce के विभिन्न प्रकार के बारे में बताया गया है।

  • Business to Business (B2B)
  • -- विज्ञापन --
  • Business to Consumer (B2C)
  • Consumer to consumer (C2C)
  • Consumer to Business (C2B)

Business to Business (B2B)

B2B E-commerce एक ऐसी प्रणाली है जहाँ एक बिज़नेस दूसरे बिज़नेस से संबंधित है। दूसरे शब्दों में, बिजनेस टू बिजनेस ई-कॉमर्स में, हर संगठन एक-दूसरे के साथ व्यवहार करता है। इस प्रकार निर्माता, थोक व्यापारी और खुदरा व्यापारी लेनदेन में शामिल होते हैं।

Business to Consumer (B2C)

बिज़नेस टू कंज्यूमर ई-कॉमर्स में सीधे Company, Consumer को उत्पाद और सेवाएँ बेचता है। इस मामले में, Consumers वेबसाइट ब्राउज़ करते हैं और उत्पादों और सेवाओं और अन्य सेवाओं की समीक्षा कर सकते हैं। अगर उपभोक्ता को उत्पाद पसंद है तो वे ऑर्डर देकर कंपनियों से उत्पाद आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। इसका सबसे लोकप्रिय उदाहरण Amazon, Flipkart आदि हैं।

Consumer to Consumer (C2C)

यह E-commerce का वैसा भाग है जहां ग्राहक एक-दूसरे से सीधे बातचीत करते हैं जहां कोई कंपनी शामिल नहीं होता है। इसका एक स्पष्ट उदाहरण eBay, OLX, Quikr आदि वेबसाइट है। जहाँ सेकंड हैंड सामान आसानी से खरीदे / बेचे जाते हैं।

Consumer to Business (C2B)

C2B E-commerce के तहत Consumer ई-कॉमर्स के माध्यम से संगठन या व्यवसाय को Services प्रदान करता है। उदाहरण के लिए, Freelancer व्यापार या एजेंटों के लिए सेवाओं या उत्पादों को बेचते हैं। इस प्रकार के ईकॉमर्स के मुख्य उदाहरण Freelancer, Fiverr और Upwork आदि हैं।

ई-कॉमर्स के लाभ (Advantages of E-commerce in Hindi)

  • ई-कॉमर्स के माध्यम से अब दुनिया भर में उत्पादों का आदान-प्रदान आसानी से संभव है। कोई भी अपने पसंदीदा उत्पाद को कहीं से भी खरीद सकता है अगर वह चाहे तो। ई-कॉमर्स ने घर पर आवश्यक उत्पादों को खरीदने और लेनदेन की लागत को कम करने के अवसर पैदा किए हैं।
  • Products बिना किसी परेशानी के बहुत जल्दी उपलब्ध हो जाते हैं। Company अपनी सुविधा के लिए Customers ki शिकायतें भी सुनती है और उन्हें शीघ्र हल करके अधिकतम Services प्रदान करती हैं।
  • केवल Customer को ही अपने द्वारा किए गए Order के बारे में पता होता है।
  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप अपने उत्पाद को दुनिया भर में किसी को भी बेच सकते हैं।
  • जब ग्राहक किसी उत्पाद या सेवा से खुश होते हैं तो वे रेटिंग प्रदान करते हैं जो आपके उत्पाद की बिक्री बढ़ाने में मदद करते हैं।
  • ई-कॉमर्स व्यवसाय दिन में 24 घंटे या सप्ताह में 7 दिन खुला रहता है। ई-कॉमर्स साइटों को कभी भी, कहीं से भी एक्सेस किया जा सकता है।
  • कभी-कभी Free shipping ऑनलाइन विक्रेताओं से उपलब्ध होता है। परिणामस्वरूप, लोग ई-कॉमर्स के माध्यम से घर पर खरीदारी करने में रुचि रखते हैं।
  • ई-कॉमर्स ने Company की उत्पादकता में वृद्धि की है और ग्राहक ई-कॉमर्स एप्लिकेशन का उपयोग करके सबसे सस्ता और सबसे अच्छा विकल्प की तुलना और चयन करने में सक्षम हैं।
  • ई-कॉमर्स कंपनियों के बीच बढ़ती Competition के कारण Company ग्राहकों के लिए पर्याप्त छूट प्रदान करते हैं।

ई-कॉमर्स के नुकसान (Disadvantages of E-commerce in Hindi)

  • ई-कॉमर्स के साथ आप अपनी पसंद के Products के स्पर्श, गंध, स्वाद आदि का अनुभव नहीं किया जा सकता जिससे ग्राहकों को उत्पादों पर कुछ विश्वास की समस्या का सामना करना पड़ेगा।
  • ऑनलाइन कुछ भी खरीदने के साथ सबसे बड़ी समस्या यह है कि आपके पास किसी भी Products की गुणवत्ता की कोई गारंटी नहीं है। अक्सर यह देखा जाता है कि Picture में Products बहुत सुंदर दिखता है लेकिन आपको डिलीवरी के बाद उत्पाद की क्वालिटी पसंद नहीं आई।
  • ग्राहकों द्वारा उत्पाद को ऑनलाइन ऑर्डर करने के बाद, उत्पाद के वितरण में समस्या होती है यानी ग्राहकों को निर्धारित समय के भीतर उत्पाद प्राप्त करने में समस्या होती है।
  • ई-कॉमर्स साइटों से Product खरीदते समय, आपको बहुत सी व्यक्तिगत जानकारी प्रदान करने की आवश्यकता होती है जैसे: नाम, फ़ोन नंबर, पता और बैंक विवरण इत्यादि, जो आपकी जानकारी के संरक्षण में बाधा हैं।
  • ग्राहकों को भी इंटरनेट तक पहुँचने में समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कई बार साइट Crash की समस्या होती है।
  • कुछ Products को ऑनलाइन खरीदना मुश्किल है।

E-commerce Business कैसे शुरू करें (How to start an ecommerce business in Hindi)

किसी भी ईकॉमर्स बिजनेस की शुरुआत करने के लिए आपको कुछ चीजों का ध्यान रखना जरूरी है। यहां हम Step By Step बता रहे हैं एक ईकॉमर्स बिजनेस की शुरुआत कैसे करें।

  • E-commerce Business को शुरू करने के लिए सही प्लान बनाएं

किसी भी व्यवसाय को शुरू करने से पहले, आपको उस व्यवसाय के बारे में सही विचार होना चाहिए। हमें इस बात का स्पष्ट रूप से पता होना चाहिए कि हम उस व्यवसाय के बारे में कितना जानते हैं जिसे हम शुरू करना चाहते हैं, चाहे हमारे पास कितनी पूँजी हो, हमें व्यापार करने की आवश्यकता क्यों है, और हमारे सभी भागीदारों, कर्मचारियों के क्या काम होंगे।

-- विज्ञापन --

आपको पहले से तय करना होगा कि कौन क्या करेगा। क्योंकि ई-कॉमर्स व्यवसाय ऐसा है जिसे अकेले करना संभव नहीं है, सभी को एक साथ और सही समय पर निर्णय लेना चाहिए।

ये भी पढ़े Affiliate Marketing Kya hai

  • सही Products का चयन करें

Product ई-कॉमर्स व्यवसाय के लिए सबसे महत्वपूर्ण मुद्दों में से एक हैं। क्योंकि आप तय करते हैं कि आप किस तरह के उत्पाद के साथ काम करना चाहते हैं।

आपको केवल उन उत्पादों के साथ काम करना चाहिए जिन्हें आप अच्छी तरह से जानते और समझते हैं। इस मामले में, उन उत्पादों को चुनना जरूरी है जो लोगों की जरूरतों के लिए प्रासंगिक हैं।

  • उत्पादों के स्रोत पर विचार करें

आपको इस बात पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है कि आप उन उत्पादों को कैसे प्राप्त करेंगे जिन्हें आप काम करना शुरू करते हैं और उन्हें खरीदार तक पहुंचाना चाहते हैं। एक बात का ध्यान रखें कि यदि आप अपने उत्पाद को ठीक से वितरित नहीं कर सकते हैं, तो इससे आपके व्यवसाय पर बुरा प्रभाव पड़ेगा। इसलिए उत्पादों का चयन करते समय सावधान रहें।

  • Market Research करें

Market की मांग के संबंध में काम हमेशा किया जाना चाहिए। बाजार में सबसे अधिक मांग वाले उत्पादों के साथ काम किया जा सकता है। आप नए उत्पादों के साथ भी काम कर सकते हैं। इसके लिए हमें लोगों की जरूरतों पर नजर रखनी चाहिए। जैसे कि किसी भी नए Electronic Product, हस्तनिर्मित गहने, देश के विभिन्न हिस्सों के प्रसिद्ध भोजन, कपड़ों के साथ काम किया जा सकता है।

  • उत्पाद और गुणवत्ता पर ध्यान दें

एक सफल व्यवसाय Product और उसकी Quality और Services पर निर्भर करता है। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि उत्पाद की गुणवत्ता मैं लोगों तक पहुंचा रहा हूं और खरीदार ने जो Product ऑर्डर किया है वह सटीक Product है जिसे आप खरीदार को वितरित कर रहे हैं।

  • ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ Competition पर ध्यान दें

किसी भी व्यवसाय में प्रतिस्पर्धा होगी, क्योंकि आप अकेले कोई व्यवसाय नहीं कर सकते। विभिन्न संगठन होंगे जिनके साथ आपका व्यवसाय मेल खाएगा और जिसके साथ आपको Competition करना होगा और जीवित रहना होगा। प्रतिस्पर्धा के लिए अपने उत्पादों की गुणवत्ता या कीमत को कम करके व्यवसायों को नुकसान नहीं पहुंचाया जा सकता है। ऐसी स्थिति न बनाएं जहां बाजार बर्बाद हो। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आपके पास स्वतंत्र रूप से व्यापार करने का अधिकार है और Competition करके किसी और को चोट नहीं पहुंचाना है।

  • सही तकनीक का चयन करें (एक ईकॉमर्स वेबसाइट बनाएं)

ई-कॉमर्स व्यवसाय करते समय पहली बात जो दिमाग में आती है, वह एक Website है, जिसका उपयोग हर कोई खरीदारी करने के लिए कर सकता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यहां आपको एक बेहतर Stage और सही तकनीक का चयन करना है।

इसके लिए आपको टेक्नोलोजी का Knowledge होना चाहिए। आपके वेबसाइट का Layout User interface बिल्कुल Easy and Clean होना चाहिए।

मान लीजिए आपके पास एक Store है जहां कई प्रकार के Products हैं। लेकिन अगर आप अपने प्रोडक्ट्स को व्यवस्थित नहीं करते हैं, तो खरीदार को आपका Products नहीं मिलेगा। उस स्थिति में आपकी बिक्री कम होगी। E-commerce बिज़नेस में जैसे ही आप अपना स्टोर सेट करते हैं, आपको अपनी ई-कॉमर्स वेबसाइट सेट करने की आवश्यकता होती है, ताकि ग्राहक आपकी वेबसाइट में प्रवेश करने पर सही Product पा सकें।

  • अपनी Product को Promote करने के लिए Advertising कराएं

किसी व्यवसाय के विस्तार के लिए Advertising आवश्यक है, क्योंकि आप चाहते हैं कि हर कोई आपके उत्पाद के बारे में जानें और समझे। आपको और आपके व्यावसायिक संबंधों को सूचित रखना महत्वपूर्ण है। विभिन्न Marketing Strategies और तकनीकें हैं जिनसे आपको अवगत होने की आवश्यकता है।

-- विज्ञापन --

आपके उत्पादों का उचित Advertising आपके व्यवसाय को सफल बनाएगा और मुनाफा बढ़ाएगा। Advertisement के लिए विभिन्न माध्यम हैं जैसे कि सोशल मीडिया, समाचार पत्र, टीवी और कई अन्य जो आपके Product और बिजनेस का प्रचार करते हैं।

ये भी पढ़े MPL App se Paise kamana sikhe 

Last Words on What is E commerce in Hindi

आज इस पोस्ट में मैंने बताया, ई-कॉमर्स क्या है (What is E commerce in Hindi) और इसके विभिन्न प्रकार कौन कौन से हैं तथा अपना खुद का ईकॉमर्स बिजनेस कैसे शुरू करें। आशा करता हूं आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा।

यदि अभी भी आपके मन में E-commerce से जुड़ा कोई सवाल है तो हमें Comment करके बताएं। हम आपके सवालों का जितना जल्दी हो सके जवाब देने का प्रयास करेंगे। यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों और अन्य लोगों के साथ शेयर करना न भूलें।

-- विज्ञापन --
Share on:

Leave a Comment