What is VSAT in Hindi | जानिये VSAT क्या होता है और यह कैसे काम करता है?

-- विज्ञापन --

What is VSAT in Hindi: क्या आप जानते हैं VSAT क्या है? दोस्तों एक समय ऐसा जब हम इंटरनेट बहुत कम इस्तेमाल कर पाते थे। और पहले कि तुलना में आज देखा जाय तो हमारे उपयोग के लिए प्रतिदिन का 2-3 जीबी डाटा भी कम पड़ जाता है। आज के Digital युग में Internet सबके लिए बहुत जरुरी हो गया है। लेकिन दुर्भाग्य की बात यह है कि आज हर जगह पर इंटरनेट एक्सेस नहीं किया जा रहा। आज इस पोस्ट में हम ऐसे ही एक Internet से जुड़ी तकनीक के बारे में बताएंगे जिसका नाम है VSAT. आज इस पोस्ट में आप जानेंगे VSAT क्या है। VSAT का Full Form क्या होता है यह कैसे काम करता है, इसके लाभ तथा हानि।

-- विज्ञापन --

अभी हम जिस Internet का प्रयोग करते हैं वे हमतक एक Lines के द्वारा Optical Fiber के माध्यम से पहुंचते हैं। ये lines समुद्रों और पृथ्वी के अंदर स्थापित किया गया है। लेकिन इन Lines और Cables को दुनिया के हर कोने में पहुंचाना मुश्किल है जिसके वजह से हम बहुत से जगहों पर High Speed Internet connection का इस्तेमाल नहीं कर सकते। आज के वर्तमान युग में हम चाहते हैं कि हम दुनिया के किसी कोने में रहकर इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकें। इसी चाहत को पूरा करने के लिए हम एक नई तकनीक VSAT पर भरोसा कर सकते हैं। जो कि भविष्य के लिए कारगर साबित हो सकती है।

What is VSAT in Hindi  जानिये VSAT क्या है?
-- विज्ञापन --

VSAT क्या है? (What is VSAT in Hindi)

VSAT का शाब्दिक अर्थ “Very Small Aperture Terminal” होता है। इसका अन्य नाम Satellite Communication earth station या Micro Earth station है। यह 1980 के मध्य में विकसित एक उपग्रह संचार प्रणाली है। क्योंकि VSAT पारंपरिक Satellite communication system से लिया गया है, इसे Satellite mini data station या Personal earth station भी कहा जाता है। यह एक ऐसी तकनीक है, जो बेहद रिमोट एरियाज और दूरदराज की लोकेशन पर इंटरनेट की कनेक्टिविटी प्रदान करती है। इसकी मदद से आपको घरेलू के साथ व्यावसायिक उपयोगकर्ताओं को नेटवर्क सुविधा प्रदान की जाती है।

VSAT meaning in Hindi के बारे में बात की जाय तो इसका एक साधारण सा अर्थ है जिस तरह आप DTH का इस्तेमाल करते हैं ठीक उसी तरह की एक मशीन का इस्तेमाल करके किसी भी जगह पर Internet Access कर सकते हैं। उस मशीन का नाम है VSAT.

VSAT (Very Small Aperture Terminal) पहली बार 1980 के दशक में संयुक्त राज्य अमेरिका में उभरा, और इसका तेजी से विकास 30 वर्षों के लिए Satellite communication technology के विकास में एक महत्वपूर्ण मोड़ है। VSAT system दो प्रकार के होते हैं। एक Two-way VSAT System है, जिसे एक केंद्रीय स्टेशन द्वारा कई VSAT terminals जैसे डेटा ट्रांसमिशन, वॉइस और फैक्स जैसी सेवाएं प्रदान करने के लिए नियंत्रित किया जाता है; दूसरा One way VSAT system है, जिसमें Picture और Data जैसे Signal central station से कई Single-receive VSAT terminals तक प्रेषित होते हैं।

VSAT system में एक outdoor unit और एक Indoor unit शामिल होता है। यदि आउटडोर यूनिट या रेडियो फ्रीक्वेंसी डिवाइस के बारे में बात की जाय तो इसमें, एक छोटा-व्यास वाला एंटीना, डाउन कन्वर्टर और विभिन्न एम्पलीफायर्स शामिल होते हैं। इसके Indoor Unit में IF और एक Baseband device होता है, जिसमें मॉडेम, AIDS decoder शामिल होते हैं। यह Special Creation Services के प्रकार के आधार पर भिन्न होती है।

VSAT network को Network की प्रकृति के अनुसार तीन श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है: Data communication network, Voice communication network और Tv satellite communication.

VSAT full form

VSAT का full form होता है Very Small Aperture Terminals.

VSAT System कैसे design किया जाता है?

VSAT satellite communication system में दो भाग होते हैं: अंतरिक्ष और जमीन।

अंतरिक्ष का हिस्सा

Space VSAT Satellite Communication System का अंतरिक्ष हिस्सा एक Satellite होता है। आम तौर पर, इसके लिए Geostationary orbit communication satellites का उपयोग किया जाता है। Satellite विभिन्न Frequency Band में काम कर सकते हैं। Satellite पर Transponder की संचारण शक्ति जितना संभव हो उतना बड़ा होना चाहिए ताकि VSAT Ground Terminal का एंटीना का आकार छोटा हो सके।

जमीन का हिस्सा

Ground VSAT Satellite Communication System का मुख्य भाग एक Hub station, एक Remote station और एक Network control unit से बना होता है। Hub station का कार्य Satellite से डेटा एकत्र करना है और फिर प्रत्येक दूरस्थ स्टेशन को डेटा वितरित करना है। रिमोट स्टेशन Satellite communication network का मुख्य भाग है। VSAT satellite communication network कई दूरस्थ स्टेशनों से बना होता है। जितने अधिक ये स्टेशन होते हैं, प्रत्येक स्टेशन की लागत उतनी ही कम है। आमतौर पर, रिमोट स्टेशन को सीधे User के स्थान पर स्थापित किया जाता है और User के टर्मिनल उपकरण के साथ जोड़ा जाता है।

Also Read: Artificial Intelligence क्या है? आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) कैसे काम करता है?

VSAT के प्रकार (Types of VSAT in Hindi)

VSAT के प्रकार को दो आधार से विभाजित किया जाता है।

Service के अनुसार VSAT के प्रकार

VSAT मुख्य प्रकार की Services के अनुसार, इसे दो प्रकार से विभाजित किया जा सकता है:

  1. VSAT system Voice services- इस तरह के नेटवर्क का उपयोग मुख्य रूप से सार्वजनिक नेटवर्क और निजी नेटवर्क से Voice signal के प्रसारण के लिए किया जाता है। यह Interactive data services भी प्रदान करता है।
  2. -- विज्ञापन --
  3. VSAT system data services– डेटा संचार के अलावा, यह नेटवर्क फैक्स और थोड़ी मात्रा में Voice services भी प्रदान कर सकता है।

वीसैट प्रणाली Integrated services पर आधारित है, उदाहरण के लिए, प्राप्त की गई Pictures और Sound signals को cable TV के Signal source के रूप में उपयोग किया जा सकता है जो Cable distribution network के माध्यम से उपयोगकर्ता के घर में प्रेषित किया जा सकता है।

Also Read: DTP क्या होता है? DTP Full Form | DTP Operator के क्या कार्य हैं?

VSAT कैसे काम करता है?

VSAT उपभोक्ता के कंप्यूटर और बाहरी एंटीना के मध्य एक प्रकार से ट्रांसीवर के साथ interface प्रदान करता है। ट्रांसीवर की मुख्य भूमिका आकाश में एक उपग्रह ट्रांसपोंडर को संकेत received करता और भेजता है। VSAT प्रौद्योगिकी के अंतर्गत तीन मुख्य घटक होते हैं।

इनकी भूमिका एक साथ मिलकर Star topology बनाना होता है और यह Satellite network का उपयोग करके छोटे नेटवर्क के लिए Mesh Topology संभव हो जाती है।

-- विज्ञापन --

यह Earth station से 3 मीटर की दूरी या फिर उससे अधिक छोटी दूरी पर होता है। VSAT की सहायता से उपचार संचार प्रणाली सेवाएं उपभोक्ता को घरेलू और व्यवसायिक यूजर्स को प्रदान करने का काम करता है।

Satellite earth station पर स्थित कंप्यूटर के माध्यम से सिग्नल भेजने के साथ प्राप्त करने का कार्य करता है, जो कि आपके सिस्टम के लिए एक प्रकार से Hub के तौर पर कार्य करता है। हर एंड-यूज़र एक स्टार topology में Satellite के द्वारा hub स्टेशन से कनेक्ट हुआ होता है।

एक End User के लिए दूसरे के साथ संवाद करने के लिए, प्रत्येक ट्रांसमिशन को पहले hub स्टेशन से गुजरना पड़ता है जो कि उस उपग्रह में सहायता से दूसरे छोर के उपयोगकर्ता के वीएसएटी तक पहुंचाने का कार्य करता है। VSAT की भूमिका उपभोक्ता के डाटा, वॉइस और वीडियो सिग्नल को संभालने में मुख्य रूप से होती है।

यानी कि रिमोट एरिया में कम्युनिकेशन  के लिए वैकल्पिक तौर पर एक ही ऑप्शन उपलब्ध होता है इसे हम VSAT के नाम से जानते हैं।

Also Read: Information Technology Kya Hai? Course, fees, job, carrier

VSAT के उपयोग

VSAT की उपयोगिता के बारे में जब भी जिक्र आता है तो इसका प्रयोग हर घर में हम सब के द्वारा किया जाता है।

VSAT तकनीकी के प्रयोग को DERPC के नाम से जानते हैं। वही निजी कंपनियों के द्वारा प्रदान की गई इस सर्विस को VSAT work कहा जाता है।

VSAT का उपयोग समाचार, मौसम विज्ञान, civil Aviation, नागरिक वायु रक्षा, बैंकिंग, पेट्रोलियम, भूकंप और सैन्य विभागों और दूरदराज के क्षेत्रों में संचार में व्यापक रूप से किया जाता है।

VSAT से होने वाला लाभ

  • VSAT terminal मामूली दर पर मिल जाते है। VSAT terminals और घर में निकास Hardware जैसे कि ट्रक और वैन पर कनेक्ट कराए जा सकते हैं और इसकी गतिशीलता की स्थिति में भी इसका उपयोग किया जाता है।
  • VSAT के माध्यम से यूजर्स डाटा के अतिरिक्त वॉइस और वीडियो भी sent कर सकते है।
  • VSAT की उपयोगिता Internet access को प्रदान करने के लिए भी होगी है।

VSAT से होने वाली हानि

  • VSAT का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि इसे Satellite से Connect करने के लिए बहुत अधिक समय की खपत हो जाती है। इसके पीछे वजह है कि इसके सिस्टम का एक हिस्सा पृथ्वी की भू समकालीन स्थित होना पाया जाता है।
  • VSAT के द्वारा स्थापित नेटवर्क में और अंतरिक्ष में मौजूद उपग्रह के मध्य स्पष्ट रेखा नहीं होती है। VSAT द्वारा भेजी गई सूचना पत्र तक पहुंचाने के लिए हवा का उपयोग किया जाता है। इसलिए इसे हैक भी किया जा सकता है इसलिए इस माध्यम को सुरक्षा की दृष्टि से बेहतर बनाना होता है, जिससे कि सुरक्षित तरीके से संचार संभव हो।
  • VSAT को कनेक्ट करने के लिए यूजर्स के पास VSAT कनेक्शन यानी कि बाहरी एंटीना की जरूरत पड़ती है।
  • आपको जानकर थोड़ा हैरानी होगी कि उपग्रह से संपर्क स्थापित करने के लिए ऐसे स्थान को दक्षिण दिशा की ओर रखना चाहिए यदि यूजर की छत असामान्य छत है तो ऐसे में आपको उपग्रह से संपर्क करने में दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है।

अन्तिम शब्द,

आज इस पोस्ट में मैंने Satellite Internet की एक तकनीक VSAT (VSAT meaning in hindi) के बारे में बताया। आशा करता हूं आपके लिए यह जानकारी उपयोगी होगा। यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अन्य लोगों के साथ जरूर शेयर करें। यदि आपके पास इस पोस्ट से जुड़ा कोई सवाल है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

-- विज्ञापन --
Share on:

Leave a Comment