HTTP Kya Hai | Difference Between HTTP or HTTPS in Hindi 2020

-- विज्ञापन --

आज Internet का इस्तेमाल लगभग सभी लोग करते हैं। जब भी आप Internet के माध्यम से किसी चीज को Search करने के लिए Browser खोले होंगे तो Browser के Address Bar में आपको कुछ Words, HTTP और HTTPS दिखे होंगें। इन शब्दों को देखते हुए आपके मन में यह सवाल जरूर उठा होगा कि HTTP क्या है या HTTPS क्या है? HTTP और HTTPS में क्या अन्तर है?

-- विज्ञापन --

यदि आप जानना चाहते हैं कि HTTP Kya Hai है तो इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें। इस पोस्ट में हम HTTP और HTTPS के बारे में विस्तार से बताएंगे।

जब भी आप अपने Browser में किसी Website को खोलते हैं तो URL का सबसे पहला भाग HTTP या HTTPS होता है। अतः हम यह कह सकते हैं कि Website पर जो भी चीज हम देख रहे हैं वह हम तक HTTP के माध्यम से पहुंच रही है।

आपने देखा होगा कि HTTP के साथ Not Secure और HTTPS के साथ Green Lock Symbol और Secure लिखा होता है, आज इस पोस्ट में हम यह भी बात करेंगे कि HTTPS secure क्यों होता है। यहां आप यह भी देखकर कंफ्यूज हो जाते हैं कि अलग अलग Website की Address अलग अलग Format पर क्यों नहीं हैं। इन सभी सवालों के जवाब पाने के लिए चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं कि HTTP kya hai in Hindi?

HTTP Kya Hai? (What is HTTP in Hindi)

HTTP Kya Hai? (What is HTTP in Hindi)

-- विज्ञापन --

HTTP एक प्रकार का Internet Protocol है जिसका पूरा नाम है Hypertext transfer protocol. यह एक ऐसा Protocol है जो World Wide Web पर Data Access करता है। यह दुनिया भर के Web पर Communication के लिए उपयोग किया जाने वाला Computer Communication protocol है।

Protocol नियमों का एक समूह है जो वास्तव में आपके Web Browser और Web page के बीच Client/Server का संचालन करता है। जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है, यह HTTP एक Text transfer protocol है, अतः हम किसी भी Website पर जो कुछ भी देखते हैं वह Http के माध्यम से ही देख पा रहे हैं।

जैसा कि मैंने पहले बताया किसी website के address के पहले HTTP लिखा जाता है (जैसे http://www.abc.com). एक browser और server के बीच किसी भी प्रकार का data जैसे text, Audio, Video, Image आदी transfer होने पर इन्हें कुछ नियमों का पालन करना होता है और ये नियम HTTP protocol द्वारा निर्धारित किया जाता हैं। protocol के माध्यम से यह निर्धारित किया जाता है की transfer होने वाले data का format और Transmission कैसा होगा और विभिन्न commands पर Browser और Server का response कैसा होगा।

HTTP कैसे काम करता है?

जैसा कि मैंने पहले ही बताया की HTTP एक Communication protocol है। यह Client और Server के बीच Communication बनाता है। जब कोई क्लाइंट Website Server का Request करता है, तो HTTP उस Request को Accept करता है और TCP के माध्यम से Client और Server के बीच Communication स्थापित करता है। तब HTTP सर्वर पर Request भेजता है, Server में सारे Files stored होते हैं। यहां से HTTP मांगी गई जानकारी को खींचता है और उसे Client तक पहुंचाता है।

HTTP Error Code in Hindi

HTTP Error code क्लाइंट द्वारा सर्वर के Request पर भेजी गई प्रतिक्रिया है। उदाहरण के लिए, जब आपका क्लाइंट (आपका वेब ब्राउज़र) Server से जुड़ने की कोशिश करता है। इन प्रतिक्रियाओं में Redirect, Server Error, Client error आदि शामिल हैं। HTTP error code वेब पेज से संबंधित नहीं होते हैं, इसके बजाय, वे request को संसाधित करने के तरीके पर Server से प्राप्त प्रतिक्रियाएं हैं।

7 सबसे सामान्य HTTP Error Code

1. 401 Unauthorized

401 unauthorized हमारी सूची में पहला error code है। 401 error इंगित करता है कि सर्वर को एक unauthorized request प्राप्त हुआ है। जब यह error होती है, तो system एक message प्रदर्शित करता है जो बताता है कि विभिन्न कारणों से अमान्य credentials के कारण page लोड नहीं किया जा सकता है।

2. 404 not found

404 not found इंटरनेट पर एक सामान्य HTTP error code है। यह HTTP प्रतिक्रिया तब उत्पन्न होगी जब user जिस page की तलाश कर रहा है वह server पर नहीं मिल रहा है। 404 error के पीछे कई कारण हो सकते हैं। हो सकता है कि क्योंकि वेबमास्टर ने page नहीं बनाए या आपके द्वारा दर्ज किया गया URL गलत है (क्योंकि यह एक client error है)।

3. 500 internal server error

500 internal server error एक सामान्य error है, यह तब उत्पन्न होता है जब आपके server में कोई समस्या होती है। इसके कई अलग-अलग कारण हैं, जिनमें WordPress plugins, PHP, Database आदि शामिल हैं।

4. 502 Bad Gateway

अन्य HTTP Error code के विपरीत, 502 अलग है। जब इंटरनेट पर एक सर्वर दूसरे सर्वर से एक अवैध प्रतिक्रिया प्राप्त करता है, तो bad gateway error होती है। जब सर्वर अनुरोध को पूरा करने में अपेक्षा से अधिक समय लेता है, तो स्क्रीन पर 502 HTTP status code आ जाएगा।

5. 301 Moved Permanently

HTTP 301 एक विशिष्ट वेब पेज को स्थायी रूप से दूसरे URL पर ले जाने का Error है। यह अपने आप में कोई त्रुटि नहीं है, लेकिन यह महत्वपूर्ण जानकारी पहुंचाता है। यह Page स्तर पर हो सकता है जहां आप उस page स्तर पर किसी अन्य समान पोस्ट (या यहां तक कि होमपेज) या Domain को इंगित कर सकते हैं। सरल शब्दों में बोला जाय तो किसी भी Webpage को किसी दूसरे URL पर Permanently Redirect 301 Redirect कहलाता है।

6. Discovery 302

यह HTTP Status code 301 के समान है लेकिन Temporary redirection के लिए उपयोग किया जाता है। यह प्रतिक्रिया Google को बताती है कि Page अस्थायी रूप से redirect हो गया है और कुछ point पर original URL पर वापस आ जाएगा। यदि सही तरीके से किया जाता है, तो यह कुछ सेकंड में user को दूसरे URL पर Redirect कर देगा।

7. 410 went

यह 410 Gone error 404 error के समान है। इसे Permanently 404 के रूप में सोचें। जब Webmaster किसी पोस्ट या पेज को स्थायी रूप से हटाने या किसी अन्य साइट पर इसे Restore करने का निर्णय लेते हैं, तो वे इस कोड का उपयोग कर सकते हैं।
410 प्रतिक्रिया Google को सूचित करती है कि Requested संसाधन इंटरनेट से स्थायी रूप से हटा दिया गया है और फिर से प्रकट नहीं होगा। इस तरह, आप Google से वेब पेजों को आसानी से Crawl या index कर सकते हैं।

HTTP Secure क्यों नहीं है?

यदि आप “Not Secure” Warning को देख रहे हैं इसका कारण यह है कि जिस Web page या वेबसाइट पर आप जा रहे हैं वह Secure connection नहीं दे रहा है। यदि आप इन वेबसाईट का प्रयोग किसी भी Transaction आदि के लिए कर रहे हैं तो आपको इन Websites से बचना चाहिए।

-- विज्ञापन --

यहां लॉगिन करना, व्यक्तिगत जानकारी प्रदान करना या Payment की जानकारी देने से बचना चाहिए। इस तरह की unsecured sites ब्राउज़ करना आपको जोखिम में डाल सकता है। Not secure warning उस Page के connection के लिए security की कमी बताती है। यह आपको सचेत कर रहा है कि उस page के साथ भेजी और प्राप्त की गई जानकारी असुरक्षित है।

यह संभावित रूप से हमलावरों, हैकरों और संस्थाओं द्वारा internet infrastructure, जैसे कि इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (आईएसपी) और सरकारों तक पहुंच के जरिए चुराई, पढ़ी या संशोधित की जा सकती है।

HTTPS Kya Hai | What is HTTPS in Hindi

HTTPS का पूरा नाम Hyper text transfer protocol secure होता है। यह HTTP का Secured संस्करण है। HTTPS Protocol, Encrypted transmission और identity authentication के लिए SSL (Secured socket layer) और TLS(Transport layer security) प्रोटोकॉल का प्रयोग करता है। यह मुख्य रूप से Internet transmission security प्राप्त करने के लिए internet data transmission security को पूरा करने के लिए Digital Certificate, Encryption Algorithm, Asymmetric key और अन्य तकनीकों का उपयोग करता है।

यह HTTP के विपरीत एक Encrypted form में Data communicate करता है। HTTPS का संबंध केवल Client और Server के बीच होता है, इसके बीच कोई भी दूसरे व्यक्ति द्वारा Data को Read नहीं किया जा सकता है। HTTPS प्राप्त करने के लिए Client और Server दोनों को अपनी Identity Verify करना पड़ता है जिससे यह साबित हो सके कि जिससे Communication हो रही है उसकी पहचान असली है या नहीं।

लेन-देन, भुगतान जैसे वर्ल्ड वाइड वेब पर सुरक्षा-संवेदनशील communication में HTTPS का उपयोग किया जाता है। इसके तीन मुख्य लक्ष्य है:-

Data confidentiality: यह सुनिश्चित करने के लिए कि ट्रांसमिशन के दौरान डेटा को किसी तीसरे पक्ष द्वारा नहीं देखा जाएगा। एक कूरियर द्वारा पैकेज की डिलीवरी की तरह, सभी पैकेज पैक किए जाते हैं, और अन्य यह नहीं जान सकते कि अंदर क्या है।
Data integrity: समय-समय पर जांच करना की Data को किसी तीसरे पक्ष द्वारा छेड़छाड़ किया गया तो नहीं है।
Data Authentication: यहां पर Client और Server को अपनी अपनी Identity Verity करनी पड़ती है। ठीक उसी तरह जब हम किसी पैकेज को मेल करते हैं, हालांकि यह एक पैकेज्ड पैकेज है जिसे बदला नहीं गया है, यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि पैकेज गलत जगह पर नहीं भेजा जाएगा, और यह सुनिश्चित करने के लिए Data Authentication का उपयोग किया जाता है कि यह सही जगह पर भेजा गया है।

HTTPS कैसे काम करता है?

HTTPS भी उसी तरह काम करता है जैसे HTTP, यहां पर अंतर सिर्फ इतना है कि HTTPS के माध्यम से सारे data encrypt होकर Server से Client तक transfer किए जाते हैं। यह cryptography का concept पर कार्य करता है। cryptography एक Encrypting method है जिसके जरिये plain text को unreadable format में बदल दिया जाता है। इसकी वजह से authorized user के अलावा कोई भी Hackers आदि third party, Information read नहीं कर सकता है।

HTTP और HTTPS में क्या अंतर है?

HTTPS और HTTP के बीच मुख्य अंतर इस प्रकार हैं:
1. Http का पूर्ण रूप Hypertext transfer protocol है। जबकि https का पूर्ण रूप Hypertext transfer protocol secure है।

2. Http URLs की शुरुआत http:// से होती है जबकि https URLs की शुरुआत https:// से होती है।

3. HTTPS SSL certificate पर कार्य करता है जिसके लिए आवेदन करने के लिए certification authority की आवश्यकता होती है। जबकि HTTP के लिए कोई Certificate की आवश्यकता नहीं होती।

4. HTTP एक Hypertext transmission protocol है, यहां जानकारी सादे Text में transfer की जाती है, और https एक सुरक्षित SSL encrypted transmission protocol है।

5. HTTP और https पूरी तरह से अलग कनेक्शन method का उपयोग करते हैं और विभिन्न Ports का उपयोग करते हैं। HTTP 80 Ports और HTTPS 443 Ports का उपयोग करता है।

-- विज्ञापन --

6. HTTP कनेक्शन बहुत ही सरल और स्टेटलेस है; HTTPS प्रोटोकॉल एक Network Protocol है जो SSL + HTTP प्रोटोकॉल द्वारा Encrypted transmission और Identity authentication के लिए बनाया गया है, जो HTTP प्रोटोकॉल से अधिक सुरक्षित है।

Also Read:

Conclusion

दोस्तो, यहां पर मैंने आपको बताया Http Kya hai in Hindi, Http कैसे काम करता है। HTTPS और HTTP में क्या अंतर है। HTTP Error codes क्या हैं आदि

आशा करता हूं कि आपको यह जानकारी पसंद आयी होगी। यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और यदि आपको HTTP और HTTPS से जुडी कोई सवाल हो तो हमें कमेंट करके बताएं। हम जितना जल्दी हो सके आपके सवालों का जवाब देने की कोशिश करेंगे।

-- विज्ञापन --
Share on:

Leave a Comment