सफल ब्लॉगर (Successful Blogger) कैसे बने – सफल ब्लॉगर बनने के महत्वपूर्ण टिप्स?

-- विज्ञापन --

हर किसी को सफलता चाहिए क्योंकि जब सफल होंगे तभी पॉकेट में पैसे होंगे. पैसे के बिना आज एक आरामदायक जिंदगी की कल्पना नहीं की जा सकती. इसीलिए आज के पोस्ट में हमने यह बताने की कोशिश की है कि अगर आप ब्लॉगिंग में इंटरेस्ट रखते हैं तो फिर एक (Successful Blogger) सफल ब्लॉगर कैसे बने और इसके लिए क्या करना जरूरी.

-- विज्ञापन --

सफलता ऐसे ही नहीं मिलती उसके लिए एक प्लानिंग कि जरूरत होती है और ब्लॉगिंग में भी बिना प्लानिंग किए हुए सफल ब्लॉगर बनना आसान नहीं होता.

हर काम का एक तरीका होता है जब हम उस तरीके को अच्छे से फॉलो कर लेते हैं तभी उसमें हमें बढ़ने का मौका मिलता है. तो बिना देरी किए हुए शुरू करते हैं और जानते हैं कि आखिर एक सफल ब्लॉगर बनने के लिए एक इंसान को क्या क्या बातें ध्यान में रखनी होती है.

Successful Blogger (सफल ब्लॉगर) बनने के 5 महत्वपूर्ण टिप्स?

Sucessful Blogger

-- विज्ञापन --

आज के समय में ब्लॉगिंग एक बहुत ही अच्छा क्षेत्र बनता जा रहा है. कुछ समय पहले की बात करें तो भारत में इंटरनेट इतना सस्ता नहीं था तो लोग इंटरनेट का इस्तेमाल भी कम करते थे.

जो इंटरनेट का इस्तेमाल करते भी थे तो अपने सुविधानुसार जो जानकारी ढूंढते थे वह भी हिंदी में नहीं मिलती थी, अंग्रेजी में ज्यादा होती थी. लेकिन जब से इंटरनेट यहां पर सस्ता हुआ है तब से हिंदी ब्लॉगर की संख्या भी बढ़ती जा रही है. क्यों

क्योंकि भारत के लोग भी हिंदी में ही सब कुछ सर्च करने लगे हैं और इस वजह से हिंदी में जानकारी कम होने के कारण ब्लॉगर वह जानकारी मुहैया कराने में लगे हुए हैं. आज हम जो आर्टिकल लिख रहे हैं वह भी इसका एक हिस्सा है.

यहां हम आपको ऐसे ही महत्वपूर्ण टिप्स के बारे में जानेंगे जो एक सफल ब्लॉगर (Successful Blogger) बनने में आपकी मदद करेंगे:

1. सही नीच (niche) का चुनाव करना

ब्लॉगिंग में पहला और सबसे महत्वपूर्ण स्टेप जो है वह होता है एक सही टॉपिक, कैटेगरी या जिसे हम इस ब्लॉगिंग की भाषा में नीच कहते हैं उसका चुनाव करना.

उस टॉपिक को चुनते हैं जिसमें आपको इंटरेस्ट भी होता है और साथ ही आपके पास उसकी नॉलेज भी होती है. Niche के अनुसार आप अपने रीडर को अच्छी तरह से कनेक्ट कर पाते हैं. उनके जरूरत को समझते हैं और उसी के अनुसार उनको जानकारी उपलब्ध कराते हैं.

आप यहां बस कल्पना कर लीजिए कि आपको ब्लॉगिंग करना है और आपने ऐसा टॉपिक चुन लिया जिस पर आपको इंटरेस्ट ही नहीं है. कुछ समय बाद आप उस टॉपिक से बोर होने लगेंगे. इसका यही परिणाम होगा कि आप कुछ दिन बाद ब्लॉगिंग छोड़ देंगे.

दूसरी बात यहां पर यह भी महत्वपूर्ण है कि आपको Niche का ज्ञान होना. अगर आपको टॉपिक के बारे में आधी अधूरी जानकारी है तो फिर आपको बाद में परेशानी हो सकती है.

इसलिए उसी टॉपिक को लिखें जिसके बारे में आप बहुत बढ़िया ढंग से जानते हैं. इससे इसलिए भी फायदा होगा कि आप टॉपिक को अपने रीडर के सामने ऐसे रख सकेंगे कि उन्हें लगेगा कि आप उनसे बात कर रहे हैं और आपकी वह हर बात को समझेंगे.

जब आप एक ब्लॉग बनाते हैं और उस पर लिखना शुरू करते हैं तो यह एक अंतहीन प्रक्रिया होती है. यानी कि किसी भी कैटेगरी का कोई अंत नहीं होता. जब एक बार आप  शुरुआत करते हैं तो आपको हर दिन कुछ ना कुछ नया जानने को मिलेगा और आप अपने रीडर को भी उसकी जानकारी देते रहेंगे.

2. अच्छा लेखक होना

एक ब्लॉग का सबसे प्रमुख उद्देश्य यह होता है कि वह पाठकों के लिए लिखित जानकारी मुहैया कराते हैं. जो भी ब्लॉग में लिखते हैं. उन्हें अच्छा लेखक होना जरूरी है ताकि हर रीडर उनकी बात को आसानी से समझ सकें .

अगर आप एक अच्छा लेखक नहीं होते हैं तो आपकी जानकारी दूसरे लोगों को समझ नहीं आती और इसका परिणाम यही होगा कि आप का ब्लॉग लोगों को पसंद नहीं आएगा.

कई ब्लॉगर ऐसे होते हैं जिन्हें ब्लॉगिंग का नॉलेज तो होता है और उन्हें सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन की भी समझ होती है लेकिन वह अच्छे लेखक नहीं होते. इसलिए वह यह करते हैं कि अपने ब्लॉग में अच्छे लेखक को हायर करके उनसे कंटेंट तैयार करवाते हैं.

एक अच्छे लेखक की निम्नलिखित पहचान होती है:

  • आपका लिखा हुआ कंटेंट लोगों को आसानी से समझ में आता है.
  • -- विज्ञापन --
  • आपके कंटेंट से लोगों को फायदा होना चाहिए.
  • विषय का वर्णन आसान शब्दों में करते हैं.
  • ग्रामर की गलतियां नहीं होनी चाहिए
  • लोगों से बात करने वाली शैली में टॉपिक लिखते हैं
  • इमेज का इस्तेमाल करके अपने टॉपिक को समझाते हैं

Also Read: PBN Kya Hai | How to Earn Money with PBN in Hindi 2020

-- विज्ञापन --

3. सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का ज्ञान

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन

एक सफल ब्लॉगर की जो सबसे बड़ी खासियत होती है वह होती है सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का बहुत अच्छा ज्ञान.

अगर आप चाहते हैं कि आप ब्लॉगिंग के करियर में सफल हो तो फिर आपको गूगल और बाकी दूसरे सर्च इंजन को समझना होगा. एक सर्च इंजन कैसे काम करता है और अपने कंटेंट को कैसे ऑप्टिमाइज करें यह आपको समझना जरूरी है.

आप जो जानकारी लिखते हैं उसे अपने ब्लॉग में किस तरह से अरेंज करके ऑप्टिमाइज करें ताकि आपके रीडर तो उसे अच्छी तरह से समझें और उससे प्रभावित हो साथ ही साथ सर्च इंजन भी आपके कंटेंट से संतुष्ट होना चाहिए.

नोट: कभी भी सिर्फ सर्च इंजन के लिए कंटेंट तैयार ना करें अपने रीडर के लिए ही तैयार करें लेकिन उसे ऑन पेज ऑप्टिमाइजेशन बढ़िया ढंग से करें.

जी हां आपका पहला टारगेट तो यह होना चाहिए कि आप जो जानकारी लिख रहे हैं वह आपके रीडर के लिए है ना कि सिर्फ सर्च इंजन के लिए. लेकिन यहां सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन इसलिए भी जरूरी है क्योंकि आपको ट्रैफिक लाने के लिए अपने पोस्ट को इस प्रकार से लिखना होता है कि गूगल आपके पोस्ट को पहले पेज पर स्थान दें.

कभी भी कंफ्यूजन में ना रहे हैं. बल्कि प्लानिंग के साथ काम करें. कंटेंट उच्च क्वालिटी का तैयार करें लेकिन उसे सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के तहत बिल्कुल अच्छी तरह से लिखें जिससे कि आपके पाठकों को कंटेंट समझने में दिक्कत ना हो.

ऑन पेज और ऑफ पेज सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन काफी महत्वपूर्ण फैक्टर हैं और अच्छी रैंकिंग के लिए के लिए दोनों ही जरूरी होते हैं.

4. धैर्य के साथ काम करना

ब्लॉगिंग बहुत ही धैर्य वाला काम है क्योंकि इसमें जो परिणाम होता है वह काफी समय के बाद मिलता है. एक नए ब्लॉग से यह उम्मीद लगा कर रखना कि कुछ महीनों में इसके पोस्ट रैंक होने लगेंगे और ट्रैफिक आने लगेगी तो यह बहुत ही मुश्किल है.

एक नए ब्लॉग की अथॉरिटी बनने में काफी समय लगता है. इसके अलावा अच्छे कंटेंट तैयार करने में भी समय जाता है. इस प्रकार से देखा जाए तो ब्लॉगिंग में अगर अच्छे से प्लानिंग की जाए तो भी कम से कम 1 साल का समय तो लगता ही है.

अगर आपका नीच अधिक कंपटीशन वाला नहीं है तो 6 से 8 महीने में आपको थोड़ी बहुत ट्रैफिक मिलने लगेगी. लेकिन अच्छी कमाई के लिए अच्छी ट्रैफिक का होना जरूरी है.

अगर आप एक हिंदी ब्लॉगर हैं तो आपको अधिक ट्रैफिक लेनी होगी तब जाकर आपको कुछ अच्छे पैसे बनते हैं अन्यथा अगर इंग्लिश ब्लॉगर हैं तो फिर आपको थोड़े कम ट्रैफिक में भी अच्छी कमाई हो सकती है.

हर साल गूगल के कोर अपडेट आते हैं. जिससे ब्लॉग काफी बुरी तरह भी प्रभावित हो सकता हैं. अगर आप चाहते हैं कि आपको कभी भी गूगल के अपडेट से प्रभाव ना हो तो आप सबसे ज्यादा फोकस अपने कंटेंट पर करें.

-- विज्ञापन --

कभी ऐसा भी हो सकता है सब अच्छा होते हुए भी आप को गूगल अपडेट से नुकसान होता है। लेकिन आप देखेंगे कि 1 से 2 हफ्ते में आपके ब्लॉग की वापस रैंकिंग मिलने लगेगी.

5. भाषा का चुनाव

जब आप ब्लॉगिंग करने का सोचते हैं तो इसमें भाषा बहुत ही अहम भूमिका निभाती है.

आपने ब्लॉगिंग शुरू की तो कोई जरूरी नहीं है कि आपको सिर्फ हिंदी भाषा आती हो. अगर आपकी अंग्रेजी बहुत अच्छी है तो आप अंग्रेजी ब्लॉग पर भी काम करते हैं.

आपकी जिस भाषा में पकड़ अच्छी होती है उसमें आप अपने रीडर को काफी अच्छी तरह से कंटेंट को समझा पाते हैं. इसलिए आपको उसी भाषा में ब्लॉगिंग करना चाहिए जिसमें आप नेचुरल तरीके से कंटेंट को लिख सकते हैं.

यहां टारगेट ऑडियंस की बात करें तो भारत की जो ऑडियंस है वह हिंदी कंटेंट ज्यादा पसंद करती है. लेकिन हिंदी कंटेंट में अच्छी कमाई करने के लिए आपको ट्रैफिक भी बहुत ज्यादा चाहिए. यहां पर जो विज्ञापन आते हैं वह भारतीय कंपनियों से दी जाती है और उनकी जो कॉस्ट पर क्लिक होती है वह कम होती है.

वही अमेरिका और इंग्लैंड जैसे देश के लिए जब कंटेंट तैयार करते हैं और वहां की ऑडियंस जब इसे इसे पढ़ती है तो इसमें अच्छी कमाई इसीलिए होती क्योंकि वहां की कॉस्ट पर क्लिक ज्यादा होती है.

निष्कर्ष

एक (Sucessful Blogger) सफल ब्लॉगर बनने के लिए कुछ बातें जरूरी है जो हमने इस पोस्ट के माध्यम से आपको बताने की कोशिश की है. हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी से आप अच्छी तरह से समझ गए होंगे कि एक सफल ब्लॉगर कैसे बनते हैं.

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ में फेसबुक, ट्विटर इत्यादि में जरूर शेयर करें.

-- विज्ञापन --
Share on:

Leave a Comment