Bounce Rate क्या है? जानें बाउंस रेट कैसे कम करें?

-- विज्ञापन --

Bounce rate Google के महत्वपूर्ण Ranking Factors में से एक है। इससे Google किसी भी वेब पेज की गुणवत्ता और प्रासंगिकता के बारे में पता लगा सकता है। ब्लॉगिंग के मामले में, हम विभिन्न “Seo optimization techniques” का उपयोग करते हैं। और, हम केवल एक उद्देश्य के लिए एसईओ तकनीकों का उपयोग करते हैं, की हमारी Google के Result Pages में रैंकिंग बेहतर हो।

-- विज्ञापन --

आज इस पोस्ट में हम एक महत्त्वपूर्ण SEO फैक्टर जिसका नाम Bounce Rate है, उनके बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे। आज आप जानेंगे की Bounce Rate क्या है? Bounce Rate क्यों बढ़ता है और Bounce Rate को कम कैसे करें। यदि आपके ब्लॉग या वेबसाइट का बाउंस रेट बहुत अधिक है, तो आप कितने भी तकनीक का प्रयोग करें लेकिन उस से कोई लाभ नहीं होगा। Google की नज़र में High Bounce Rate का मतलब ही है, Low quality वाली वेबसाइटें। हालांकि, इसके कुछ विशेष कारण हैं। अर्थात्,

Google हमेशा User Experience को ध्यान में रखते हुए अपने SERPs में वेबसाइटों को रैंक करता है, इसलिए SEO के लिए Webpages की Bounce Rate को कम रखना बहुत महत्वपूर्ण है। इस मामले में, यदि आपकी वेबसाइट की Bounce Rate अधिक है, तो Google Search Engine से ट्रैफ़िक की उम्मीद करना बेकार है। तो आइए विस्तार से जानते हैं की Bounce Rate क्या होता है?

Bounce Rate क्या है? जानें बाउंस रेट कैसे कम करें!
-- विज्ञापन --

Website Bounce Rate का क्या मतलब है?

Bounce Rate, गूगल एनालिटिक्स की एक Service है जिसके माध्यम से वेब पेज पर आने वाले User के behavior के बारे में जानकारी मिलती है। मान लीजिए कि आप किसी विषय के लिए Google पर सर्च करते हैं और विषय “वेबसाईट का Bounce Rate” है। उसमें हो सकता है Google ने पहले पेज पर मेरा वेबसाईट दिखाया और आपने उस पर क्लीक किया।

मान लीजिए आपको मेरे द्वारा लिखा गया पोस्ट पसंद आया और आपने इसे पढ़ने के लिए बहुत समय लिया। कियुकी आप लंबे समय से मेरा लेख पढ़ रहे हैं, इसलिए मेरे Webpage की Bounce Rate बहुत कम होगी। और, यह Google को एक Signal भेजेगा कि यह पोस्ट “बाउंस रेट क्या है” से संबंधित आर्टिकल या पोस्ट जो मैंने अपने वेबसाईट पर लिखा है वह पूरी तरह से Search Queries के लिए प्रासंगिक है और User इस पोस्ट को पसंद करते है।

इस तरह, यदी आपके वेबसाईट का बाउंस रेट कम होगा तो Google आपके वेब पेज की रैंकिंग को “Searched Keyword” के अनुसार सुधार करेगा। और, Google के सर्च इंजन रिजल्ट पेज पर अच्छी रैंकिंग होने का मतलब है की आप बहुत सारे ट्रैफिक प्राप्त करेंगे।

दूसरी ओर यदि आपका कोई पोस्ट ऐसा है जो Search result में तो आ गया लेकिन User उसे पसंद नहीं करते और उसे छोड़कर तुरंत वापस चले जाते हैं तो उस Webpage का Bounce Rate बढ़ जाएगा और हो सकता है उस Webpage का रेंकिंग डाउन कर दिया जाय। इस प्रकार आप उस पोस्ट से ट्रैफिक प्राप्त नहीं कर पाएंगे।

Also Read: Top 5 Best Keyword Research Tools for SEO

कितना Bounce Rate सही है?

यहां तक आपने जाना की Bounce Rate क्या है, अब आपको यह जानना चाहिए की कितना Bounce Rate होना सही है अथवा कितना Bounce Rate होने पर उसे कम करने का प्रयास करना चाहिए।

सीधे शब्दों में कहें तो जीतना Bounce Rate कम होगा उतना बेहतर है। हालांकि, आप इस बात का अंदाजा लगाना चाहेंगे कि कितने प्रतिशत Bounce Rate अच्छी है। इस मामले में, विभिन्न वेबसाइटों की Content की Quality के आधार पर Bounce Rate भिन्न हो सकती है। अब, अगर हम सुरक्षित और अच्छे उछाल दर की बात करें, तो 30% से कम होना बेहतर है। 30 से 40% का Bounce Rate होना Average है।

40% या उससे अधिक की Bounce Rate का मतलब बदतर है। 80 – 89% का मतलब लगभग बुरा है। 30% से कम Bounce Rate का मतलब बहुत बेहतर है।

ज्यादातर मामलों में, User ब्लॉग की Content को पहले से देखते हैं। और, अगर उन्हें लगता है कि उस लेख में कुछ भी अच्छा नहीं है, तो वे आपकी वेबसाइट को तुरंत छोड़ देते हैं। और इसलिए, Bounce Rate को कम रखने के लिए, आपको अपने वेबसाइट के लेखों को बहुत अच्छी और दिलचस्प तरीके से लिखना होगा।

Also Read: SEO Plugins: Yoast SEO Vs Rankmath में कौन सा सबसे अच्छा है

वेबसाईट का Bounce Rate कम होने के कारक कौन से है?

हम अपनी वेबसाइट की Google खोज रैंकिंग बढ़ाने के लिए कई तरह के SEO ऑप्टिमाइज़ेशन करते हैं। हालांकि, बहुत से लोग नहीं जानते हैं कि उछाल दर Google रैंकिंग का सबसे महत्वपूर्ण कारक और एसईओ का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। यहां पर कुछ महत्त्वपूर्ण कारक दिए गए हैं जिनसे वेबसाईट का Bounce Rate बढ़ता है।

  • वेबसाईट क्या लोडिंग स्पीड कम होना या वेबसाईट स्लो होना।
  • -- विज्ञापन --
  • वेबसाईट में पढ़ने के लिए अधिक Pages का न होना।
  • कंटेंट का क्वालिटी खराब होना या Content काम का न होना।
  • अधिक परेशान करने वाले Ads और अप्रासंगिक इंटरनल लिंक का होना।
  • वेबसाईट को गलत Keyword पर रैंक करवाना।
  • वेबसाईट का Design खराब होना।
  • कंटेंट पढ़ने और समझने में कठिन होना।
  • Content का Formatting सही नहीं होना।
  • Content में जरूरत की चीजें को Highlight करना और आवश्यक Heading का इस्तेमाल करना जरूरी है।

Also Read:

Bounce Rate कम कैसे करें?

नीचे Bounce Rate को कम करने के उपाय दिए गए हैं। यदि आप इन तरीकों का इस्तेमाल करेंगे तो आपके वेबसाईट के Bounce Rate में जरूर कमी आयेगी।

Content की Quality में सुधार करें

हम सभी जानते हैं कि Content एक ब्लॉग का King है। आपके वेबसाईट का अधिक Bounce Rate का होना आपके वेबसाईट का Content का Low Quality का होना भी हो सकता है। यदि आप अपने ब्लॉग के लिए आर्टिकल लिखते हो तो ध्यान रहे की वह User को पसंद आए। कोई भी User, कभी भी Low Quality Content पसंद नहीं करेंगे। Low Quality Content का मतलब है एक ऐसा Content होना जो यूजर के समझ में न आए या उसमें जरूरी की चीजें शामिल न की गई हो। एक ही बात को बार बार दुहराकर सिर्फ लंबा कर दिया गया हो। Blog Post में बार बार Keyword का इस्तेमाल न करें, इससे User Experience खराब होता है और उन्हें Article उबाऊ लगता है।

या ये भी हो सकता है की आपके वेबसाइट का कंटेंट किसी अन्य जगहों से लेकर सिर्फ शब्दों का फेरबदल करके पब्लिश कर दिया गया हो। तो ऐसे कंटेंट को न तो कोई यूजर पसंद करेगा और न ही गुगल. और इस प्रकार के Material को देखकर कोई भी यूजर आसानी से आपके वेबसाइट को छोड़कर जा सकता है।

-- विज्ञापन --

इसके विपरित यदि आप अपने वेबसाईट में खुद से एक ऐसा Article लिखते हैं और सर्च किए जाने वाले जरूरत की चीजों के बारे में भी सही तरीके से लिखते हैं तो आपका आपके वेबसाईट का Bounce Rate जरूर कम होगा। ध्यान दें की Content लिखते समय सबसे पहले इस बात का ध्यान रखें की यूजर को क्या पसंद है। ब्लॉग पोस्ट को जितना हो सके सरल शब्दों में लिखें और जरूरी की चीजें को हाईलाइट करें। पोस्ट में उचित Headings का इस्तेमाल करें और आवश्यक शब्दों को Bold, Italic, Underline या Coloured करना न भूलें।

ध्यान रहे की की Article की Formatting सही हो और Words और Sentence सही तरीके से सजे हुए दिखाई दें। इसके लिए सही Font तथा सही Font Size का इस्तेमाल करें। यदि कंटेंट का फॉन्ट साइज आवस्यकता से बड़ा या छोटा होता है तो यूजर को आर्टिकल पढ़ने में समस्या हो सकती है। तो Content लिखते वक्त इन बातों का ध्यान रखें और यूजर Experience पर ध्यान दें।

Also Read: Website/Blog Post Ko Google Me Rank Kaise Kare!

वेबसाइट Loading Speed में सुधार करें 

वेबसाइट के Bounce Rate को कम करने के लिए आपके वेबसाइट का Fast लोड होना आवश्यक है। कोई भी यूजर आपकी वेबसाइट को Load करने के लिए केवल 1 से 2 सेकंड तक इंतजार करता है। अब, यदि आपकी वेबसाइट की लोडिंग गति धीमी है, तो ब्राउज़र में लोड होने में कम से कम 4 से 6 सेकंड का समय लगेगा। इस प्रकार, Content या Article को देखे बिना, User नाराज हो जाता है और तुरंत आपकी वेबसाइट छोड़ देता है। परिणामस्वरूप, उस वेब पेज की Bounce Rate बहुत बढ़ जाती है और High quality content लिखने के बावजूद, content Google की नज़र में Low Quality वाली हो जाती है। इसलिए, सबसे पहले, अपने ब्लॉग की Loading Speed को Fast रखने का प्रयास करें।

वेबसाइट की Loading Speed फास्ट करने के लिए नीचेकुछतरीकेदिएगए हैं।

  1. Fast Web Hosting का इस्तेमाल करें। हो सके तो Cloud Hosting का इस्तेमाल करें।
  2. कम से कम Javascript का प्रयोग करें।
  3. WebPage में प्रयोग HTML, CSS, JavaScript, PHP आदि को Compress करके उसका Size कम करें।
  4. वेबसाइट पर Latest php version का उपयोग करें।
  5. Image को अपलोड करने से पहले, Size को कम करें और इमेज को Compress करें।
  6. वेबसाइट पर बहुत सारे प्लगइन्स का उपयोग न करें।
  7. Caching Plugin प्लगइन के साथ वेबसाइट की Loading Speed को तेज करें।
  8. CDN (Content Delivery Network) का उपयोग करें।
  9. Lightweight and clean website थीम का उपयोग करें।
  10. ब्लॉग पर बहुत सारे Ads न दिखाएं।

वेबसाइट का डिजाइन Clean and Simple रखें

याद रखें, आपके ब्लॉग पर User एक सरल और स्वच्छ वेबसाइट डिज़ाइन पसंद करते हैं। Simple और Clean वेबसाइट डिज़ाइन होने से User का ध्यान केवल आपके द्वारा लिखी गई आर्टिकल पर होगा। इसके अलावा, यदि आप अधिक Colour और अलग अलग चीजों के साथ एक वेबसाइट डिजाइन करते हैं, तो यूजर के लिए आर्टिकल पढ़ना मुश्किल हो सकता है। वेबसाइट का डिज़ाइन User Friendly होना चाहिए। User Friendly Design का मतलब है एक ऐसा वेबसाइट का डिजाइन जो किसी भी Device में सही तरीके से प्रदर्शित हो। यदि आपका वेबसाइट सभी Device में सही तरीके से खुलता है तो यूजर आपके द्वारा लिखे आर्टिकल को आसानी से पढ़ पाएंगे।

पोस्ट के अंत में Related Posts का उपयोग करें

हमेशा ब्लॉग पोस्ट के अंत में कुछ रिलेटेड आर्टिकल्स का उपयोग करें। Related Posts के एक भाग को पोस्ट के अंत में रखने से, यह आपकी वेबसाइट के Visitors को अधिक समय तक रोक सकता है। क्योंकि, Related Posts के माध्यम से, Posts से संबंधित ब्लॉग के कुछ अन्य आर्टिकल्स दिखाए जाते हैं। और, यदि आपके पास अपने ब्लॉग पर कुछ उपयोगी आर्टिकल हैं, तो यूजर उन्हें भी क्लिक करेंगे और पढ़ेंगे। इससे आप अपने ब्लॉग पर Visitors को अधिक समय तक रख पाएंगे। परिणामस्वरूप, आपकी वेबसाइट की Bounce Rate कम हो जाएगी। Related Posts के फ़ंक्शन का उपयोग करने के लिए, आपको बहुत सारे WordPress Plugin मिलेंगे।

Internal Linking का उपयोग करें

किसी वेबसाइट के पेज एसईओ के लिए Internal linking बहुत जरूरी है। इस प्रक्रिया में, Post से जुड़े कुछ अन्य Blog articles के लिंक पोस्ट लिखते समय उसमें जोड़े जाते हैं। यह प्रक्रिया Bounce Rate कम करने के साथ-साथ वेबसाइट के अच्छे एसईओ के लिए भी बहुत उपयोगी है। इसलिए, ब्लॉग की Bounce Rate को कम रखने के लिए, आपको Internal linking की प्रक्रिया का उपयोग करना चाहिए।

बहुत सारे Ads का उपयोग न करें

यदि आप अपने वेब पेज पर बहुत सारे Ads का उपयोग करते हैं, तो ब्लॉग की Loading Speed धीमी हो जाएगी। और जैसा कि मैंने पहले कहा, आपकी वेबसाइट के धीमे होने का मतलब है कि वेबसाइट की Bounce Rate बढ़ जाएगी। इसके अलावा, ब्लॉग पर बहुत सारे विज्ञापन दिखाने से User के लिए आर्टिकल को पढ़ना बहुत मुश्किल हो सकता है। ताकि लेख को पढ़ते समय पाठक को कोई परेशानी न हो, विज्ञापन को आवश्यकतानुसार 3 से 4 बार इस्तेमाल करना पर्याप्त है। पोस्ट पढ़ते समय, अधिक अनावश्यक विज्ञापन Visitors को परेशान कर सकते हैं और इस वजह से User आपके ब्लॉग को छोड़ सकते हैं। इसलिए, वेबसाइट पर बहुत सारे Ads न दिखाएं।

Post में Images का उपयोग करें

Post में Images का उपयोग करना SEO के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। हालाँकि, आप Post में आर्टिक्सल से जुड़ी Images का उपयोग करके अपने ब्लॉग की Bounce Rate को कम कर सकते हैं। यह कहा जाता है, “एक Image एक हजार शब्दों के बराबर है।” लोग Images के माध्यम से किसी भी टॉपिक को बहुत आसानी से और स्पष्ट रूप से समझ सकते हैं। इसलिए, यदि आप कभी-कभी ब्लॉग पोस्ट से संबंधित कुछ Images का उपयोग करते हैं, तो यह यूजर को आकर्षित कर सकता है। और, जैसा कि यूजर Images को देखने में अधिक समय व्यतीत करते हैं इससे वेबसाइट की Bounce Rate को कम रखना आसान होगा। इसलिए जितना हो सके, अपनी पोस्ट में आर्टिकल के विषय से संबंधित Images का उपयोग करें।

Post में छोटे पैराग्राफ का उपयोग करें

कोई भी अव्यवस्थित और अस्पष्ट कंटेंट पढ़ना पसंद नहीं करता है। इसलिए, अपने लेख लिखते समय हमेशा छोटे पैराग्राफ लिखें। और, कुछ पैराग्राफ लिखने के बाद हेडिंग का उपयोग करें। इससे यूजर को आर्टिकल् पढ़ने में आसानी होगी। इस प्रकार, स्पष्ट और संक्षिप्त रूप से आर्टिकल लिखने से, Visitors या यूजर द्वारा आपकी आर्टिकल को पढ़ने की अधिक संभावना बन जाते हैं। और इससे वेब पेजों की Bounce Rate कम होगी।

आर्टिकल में वीडियो का उपयोग करें

पोस्ट में वीडियो का उपयोग करके, उस पेज पर आने वाले Visitors को लंबे समय तक वेवसाइट से जोड़े रखना संभव है। और यह प्रक्रिया एक वेबसाइट की Bounce Rate को कम करने में बहुत प्रभावी साबित हुई है। एक Image या Text Content की तुलना में, Video किसी भी User का अधिक ध्यान आकर्षित करती है। इसलिए, यदि आप एक वीडियो के रूप में अपना ब्लॉग पोस्ट बनाते हैं, तो उसे आर्टिकल में एम्बेड करें, इससे Bounce Rate कम होगी। इस तरह, यूजर आपके विडियो के माध्यम से आर्टिकल को अच्छे से समझ सकते हैं।

-- विज्ञापन --

Table of Contents का उपयोग करें

किसी भी वेबसाइट में Table of Contents का इस्तेमाल करके हम User को आकर्षित कर सकते हैं और हमारे पूरे आर्टिकल का संक्षिप्त परिचय दे सकते हैं। इससे कुछ समय के लिए आर्टिकल में 80% यूजर को रोककर रखना संभव है, क्योंकी कई ऐसे यूजर होते हैं जो आर्टिकल का Headline पढ़ना पसंद करते हैं। यदि उन्हें हेडिंग पसन्द आते हैं तो उस लिंक पर क्लिक करके वे उस भाग को भी पढ़ेंगे। Table of Contents यूजर के लिए आर्टिकल का Navigation करना आसान बना देता है। यदि आप वर्डप्रेस का उपयोग कर रहे हैं, तो आप इसके लिए Table of Contents Plugin का इस्तेमाल कर सकते हैं या WordPress Block Editor का उपयोग करके आप अपने ब्लॉग पोस्ट में Table of Contents लगा सकते हैं।

आर्टिकल में अधिक शब्दों का उपयोग करें

ध्यान रखें, पोस्ट में आप जितने कम शब्दों का उपयोग करेंगे, उतनी ही जल्दी विजिटर इसे पढ़ेंगे और आपके वेबसाइट को छोड़कर वापस चले जायेंगे। इसलिए किसी भी विषय पर लेख लिखते समय उसे कम से कम 1500 से 2500 शब्दों में लिखने का प्रयास करें।

इससे Google की नज़र में पोस्ट की गुणवत्ता अच्छी होगी। आप उस टॉपिक से संबंधित विस्तृत जानकारी पोस्ट में जोड़ सकते हैं। इसके अलावा, पोस्ट में अधिक शब्दों का उपयोग करने से, यूजर उस आर्टिकल पर अधिक समय बिताएगा। और इसलिए, इससे आपके वेबसाइट के Bounce Rate में सुधार होगा।

अंतिम शब्द,

आज के इस पोस्ट में हमने सीखा की वेबसाइट का Bounce Rate क्या है (What is the bounce rate in Hindi)। इसके अलावा, हमने Bounce Rate को कम रखने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियमों पर चर्चा की। दोस्तों, अगर आप Google Search से मुफ्त Organic search traffic प्राप्त करना चाहते हैं, तो Bounce Rate कम रखना बहुत महत्वपूर्ण है। मेरा उद्देश्य हमेशा आपको सटीक जानकारी प्रदान करना है। तो, यदि आपके पास लेख से संबंधित कोई प्रश्न या सुझाव है, तो कृपया नीचे कमेंट करके हमें बताएं। यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अन्य लोगों के साथ भी जरूर शेयर करें।

-- विज्ञापन --
Share on:

1 thought on “Bounce Rate क्या है? जानें बाउंस रेट कैसे कम करें?”

Leave a Comment